Posts

Showing posts from April, 2010

कौन समझाए (चलचित्र )

एक फ़रिश्ता

Image
इसअनजानभीड़मेंमैनेखुदकोखोयाहै,
पत्थरके खेतों में बीजों कोबोयाहै,
इसदुनियामें लोगों केपास ज़ुबां तो है,
लेकिनकाननहीं ,
वहा गीतगानेका ख्वाब संजोयाहें!!

तालियाँसबबजातेहैपरवोनाटककाएकहिस्साहै.
प्यारकरबैठतेहेंलोगपरवोज़मानेकाएककिस्साहें!
ढूंढतेरहजातेहेंजिंदगीभरएकहाथथामनेको,
क्योंकि विश्वासहेंदिलमें खुदानेछुपायाहमरेलिएभीएकफ़रिश्ताहें!!

कौन समझाए उन बातो को!!

Image
कौन समझाए उन बातो को. अनसुलझे से जज्बातों को!!
चाँद चमकता नील गगन में, चांदनी चमके सूने चमन में! कालिया सोई हे सारी सपन में, अल्हड़पन है बहती पवन में! सब होता हे क्यों इतना सुन्दर... होता हु तन्हा मै जिन रातो को!! कौन समझाए उन बातो को. अनसुलझे से जज्बातों को!!
सावन की वो पहली बूंदे, छूते थे जिन्हें हम आंखे मूंदे! वो एकही छाते में छुप जाना, फिर उसे छोड़ के खुद को भिगाना! मौसम बदले हे तब से अनेकों... पर भुला नही उन बरसातों को!! कौन समझाए उन बातो को. अनसुलझे से जज्बातों को!! ढलती वे शामे साथ बिताना, वक़्त को जैसे पर लग जाना! हौले हौले नज़रे मिलाना, नयन सिन्धु में फिर खो जाना!
साथ सफ़र पर सब कुछ ले गई.
छोड़ा है पीछे बस यादो को!! कौन समझाए उन बातो को. अनसुलझे से जज्बातों को!! ऋषभ जैन