Commentary

जिंदगी की पारी में वक्त है बल्ला टांगने का !
लोग कहते है कि में भूल जाऊं,
वो तेज तर्रार शाट लगाना !
वो नाचती सी फिरकी गेंदे फेकना !
मुश्किल गेंदों को गिरते फिसलते हुए से पकड़ना !
भूल जाऊ वो,
अच्छी पारी के बाद बल्ला हवा में घुमाना
और मैच हारने के बाद सर झुका मायूसी से लौटना !
भूल जाऊ उन दर्शकों को,
जो एक शाट पर तालियाँ
और एक गलती पर गालियां देते है !
साथ ही भूल जाऊं उन बूढ़े commentators को,
जो खुद भी कभी खिलाडी हुआ करते थे !
जिनकी सीखें और सबब आज कोई नहीं सुनता !
जो कांच के बक्सों में बैठे,
अनमने से कुछ उबाऊ सा बतियाते रहते है !!
.
.
.
.
आज कुछ साल बीत गए हें बल्ला टाँगे हुए !
अब कोई सुनता नहीं हें मेरी भी !
तजुर्बा अलमारी कि ऊपरी सतह पर रखा सड़ रहा हें !
कही अब वो पुराने दोस्त मिलते हें तो,
जिंदगी के मैच कि ज़रा commentary कर लिया करते हें !!
Rishabh Jain

Comments

Popular posts from this blog

इस पर्युषण पर्व ना भेजे किसी को क्षमापना का व्हाट्सएप, लेकिन इन 4 को जरूर बोले मिलकर क्षमा

Mirza Ghalib Episode 1 (Doordarshan) Deciphered

एक चोमू था ...