शेर

आशिक:जिन्हें मेरी चाहत से ऐतबार नहीं है,
ऐ खुदा! हमें भी उनसे प्यार नहीं है| 

खुदा: इसमें होता नहीं है सौदा लेन देन का,
ये मुहब्बत है बंदे, कोई व्यापार नहीं है | 

~~ऋषभ~~

Comments

Popular posts from this blog

इस पर्युषण पर्व ना भेजे किसी को क्षमापना का व्हाट्सएप, लेकिन इन 4 को जरूर बोले मिलकर क्षमा

एक चोमू था ...

Mirza Ghalib Episode 1 (Doordarshan) Deciphered