तो क्या बात हो

अंधेर, मायूस, सहमी, लम्बी एक रात हो. 
सूरज निकले अचानक, तो क्या बात हो| 

चेहरे की किताब पर तो पहचान बहुत है,
कुछ इंसान भी जाने, तो क्या बात हो| 

जब से होश संभाला, बेइंतेहा प्रेम है तुमसे, 
मालूम हो जाए तुम्हें भी,तो क्या बात हो| 

माना तेज़ है, आसान भी - ईमेल, पर गोया,
चिट्ठी कोई लिख जाए, तो क्या बात हो ||

Comments

Popular posts from this blog

इस पर्युषण पर्व ना भेजे किसी को क्षमापना का व्हाट्सएप, लेकिन इन 4 को जरूर बोले मिलकर क्षमा

एक चोमू था ...

Mirza Ghalib Episode 1 (Doordarshan) Deciphered