अज्ञात

अबतक,


भागता रहा हूँ,
उनके पीछे, 
जिनके चेहरे नहीं थे|


ना जाने कितने दिलचस्प किस्से
और नायब इंसान,
पीछे छूट गए ||    


  

Comments

Popular posts from this blog

इस पर्युषण पर्व ना भेजे किसी को क्षमापना का व्हाट्सएप, लेकिन इन 4 को जरूर बोले मिलकर क्षमा

एक चोमू था ...

Mirza Ghalib Episode 1 (Doordarshan) Deciphered