स्वागत

पसंद / नापसंद .. दर्ज ज़रूर करें !

Monday, April 12, 2010

कौन समझाए उन बातो को!!

कौन समझाए उन बातो को.
अनसुलझे से जज्बातों को!!

चाँद चमकता नील गगन में,
चांदनी चमके सूने चमन में!
कालिया सोई हे सारी सपन में,
अल्हड़पन है बहती पवन में!
सब होता हे क्यों इतना सुन्दर...
होता हु तन्हा मै जिन रातो को!!
कौन समझाए उन बातो को.
अनसुलझे से जज्बातों को!!

सावन की वो पहली बूंदे,
छूते थे जिन्हें हम आंखे मूंदे!
वो एकही छाते में छुप जाना,
फिर उसे छोड़ के खुद को भिगाना!
मौसम बदले हे तब से अनेकों...
पर भुला नही उन बरसातों को!!
कौन समझाए उन बातो को.
अनसुलझे से जज्बातों को!!
ढलती वे शामे साथ बिताना,
वक़्त को जैसे पर लग जाना!
हौले हौले नज़रे मिलाना,
नयन सिन्धु में फिर खो जाना!
साथ सफ़र पर सब कुछ ले गई.
छोड़ा है पीछे बस यादो को!!
कौन समझाए उन बातो को.
अनसुलझे से जज्बातों को!!
ऋषभ जैन
video

1 comment:

  1. Watch this video and comment
    http://www.youtube.com/watch?v=Ppn8kjOOa68

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...