एक फ़रिश्ता

इस अनजान भीड़ में मैने खुद को खोया है,
पत्थर के खेतों में बीजों को बोया है,
इस दुनिया में लोगों के पास ज़ुबां तो है,
लेकिन कान नहीं ,
वहा गीत गाने का ख्वाब संजोया हें!!

तालियाँ सब बजाते है पर वो नाटक का एक हिस्सा है.
प्यार कर बैठते हें लोग पर वो ज़माने का एक किस्सा हें!
ढूंढते रह जाते हें जिंदगी भर एक हाथ थामने को,
क्योंकि विश्वास हें दिल में
खुदा ने छुपाया हमरे लिए भी एक फ़रिश्ता हें!!

Comments

  1. अच्छी रचना ..एक सुन्दर प्रस्तुति ...बधाई स्वीकारे

    http://athaah.blogspot.com/

    ReplyDelete

Post a Comment

Thank You :)

Popular posts from this blog

इस पर्युषण पर्व ना भेजे किसी को क्षमापना का व्हाट्सएप, लेकिन इन 4 को जरूर बोले मिलकर क्षमा

Mirza Ghalib Episode 1 (Doordarshan) Deciphered

एक चोमू था ...