वक्त


बेटा!
क्यों घर नहीं आता ?

पापा!
वक्त नहीं मिलता|

बेटा!
कुछ वक्त बचाया था,
अपने बुढापे के लिए,
ज़रूरत हो तो ले जाना'
यहाँ बेमतलब रखा है|


Comments

Popular posts from this blog

इस पर्युषण पर्व ना भेजे किसी को क्षमापना का व्हाट्सएप, लेकिन इन 4 को जरूर बोले मिलकर क्षमा

Mirza Ghalib Episode 1 (Doordarshan) Deciphered

एक चोमू था ...