माँ


रात भर कल,
खोजता रहा नींद को ...
.
और वो छुपी बैठी थी,
माँ तेरी गोद में||



Comments

Popular posts from this blog

इस पर्युषण पर्व ना भेजे किसी को क्षमापना का व्हाट्सएप, लेकिन इन 4 को जरूर बोले मिलकर क्षमा

Mirza Ghalib Episode 1 (Doordarshan) Deciphered

एक चोमू था ...