स्वागत

पसंद / नापसंद .. दर्ज ज़रूर करें !

Sunday, August 12, 2012

अधूरी गज़ल


रात आधी, बात आधी, एक जाम है आधा,
मैं अधूरा, तुम अधूरी, शब् पर चाँद है आधा||

मुझसे मिलकर ही तो, हो पाएगा पूरा,
है सुन्दर बहुत लेकिन, तेरा नाम है आधा |

पुरानी चोट है दिल में, दवा रोज़ पीता हूँ,
आधी हुई है ख़त्म, बचा अब दर्द है आधा|

फिसल के हुस्न पर तेरे, सज़ा का हकदार मैं बना, 
पर सज़ा की तू भी है हकदार ,तेरा गुनाह है आधा |
 
 

1 comment:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...