अधूरी गज़ल


रात आधी, बात आधी, एक जाम है आधा,
मैं अधूरा, तुम अधूरी, शब् पर चाँद है आधा||

मुझसे मिलकर ही तो, हो पाएगा पूरा,
है सुन्दर बहुत लेकिन, तेरा नाम है आधा |

पुरानी चोट है दिल में, दवा रोज़ पीता हूँ,
आधी हुई है ख़त्म, बचा अब दर्द है आधा|

फिसल के हुस्न पर तेरे, सज़ा का हकदार मैं बना, 
पर सज़ा की तू भी है हकदार ,तेरा गुनाह है आधा |
 
 

Comments

Post a Comment

Thank You :)

Popular posts from this blog

इस पर्युषण पर्व ना भेजे किसी को क्षमापना का व्हाट्सएप, लेकिन इन 4 को जरूर बोले मिलकर क्षमा

Mirza Ghalib Episode 1 (Doordarshan) Deciphered

एक चोमू था ...