रटन रटन के हम मरे,
रसायनशास्त्र का ज्ञान,
नींद आए क्या गजब,
न होश रहे न ध्यान,

पर झपकी जेसे ही लगी,
पड़ा गाल पे वार,
नालायक बेशर्म कह गुरूजी बरसे,
लिख लाना सौ बार,

लिख लाना सौ बार,
शब्द जैसे ये बोले,
घनघना उठा बदन।
दरवाज़े दिमाग के खोले॥

पिताजी का हाल सोच सोच
मन तरसाया।
क्या गुरूजी पापा का
बेकार में काम बढाया॥
ऋषभ जैन

Comments

  1. love this poem Rishabh..keep it up.Will ask Shrey to memorize this

    ReplyDelete
  2. maje a gaye yaar..got ur blog link frm orkut. ur poems reflect awesome creativity. hope to get to read many more.keep writing!

    ReplyDelete

Post a Comment

Thank You :)

Popular posts from this blog

इस पर्युषण पर्व ना भेजे किसी को क्षमापना का व्हाट्सएप, लेकिन इन 4 को जरूर बोले मिलकर क्षमा

एक चोमू था ...

Mirza Ghalib Episode 1 (Doordarshan) Deciphered