लोग कहते है ...

ऐ खुदा,
तुझे ढूंढा |
इबादतगाहों में.
दीवारों-दरख्तों में,
संत-फकीरों में,
ना मिला |
.
फिर इक रोज़ राह चलते,
नूर दिखा तेरा |
.
और  ये नादां लोग,
हँसते है,
शायद जलते है मुझसे|
कहते है,
मुझे प्यार हुआ है | 

Comments

Popular posts from this blog

इस पर्युषण पर्व ना भेजे किसी को क्षमापना का व्हाट्सएप, लेकिन इन 4 को जरूर बोले मिलकर क्षमा

एक चोमू था ...

Mirza Ghalib Episode 1 (Doordarshan) Deciphered