स्वागत

पसंद / नापसंद .. दर्ज ज़रूर करें !

Sunday, December 18, 2011

लोग कहते है ...

ऐ खुदा,
तुझे ढूंढा |
इबादतगाहों में.
दीवारों-दरख्तों में,
संत-फकीरों में,
ना मिला |
.
फिर इक रोज़ राह चलते,
नूर दिखा तेरा |
.
और  ये नादां लोग,
हँसते है,
शायद जलते है मुझसे|
कहते है,
मुझे प्यार हुआ है | 

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...