जंगलराज

सच जानते है सब, 
पर बेखबर है |
क़ानून के हाथ लम्बे  है,
पर बेअसर है |

हर दबिश से पहले,
दबे पाओं की आहट है |
राजनीतिक गलियारों में,
सरेआम सुगबुगाहट है |

इन व्याभिचारियों के आगे,
क़ानून ज़रा छोटा है |
पहचान कर भी सबूत नहीं,
अच्छा सिला मुखौटा है |
  
यहाँ परचम उन्हीं का चलता है, 
कुनबा उनका आबाद है | 
वे मरकर भी आरोपी है,
ये ह्त्या कर भी आज़ाद है |


Comments

Popular posts from this blog

इस पर्युषण पर्व ना भेजे किसी को क्षमापना का व्हाट्सएप, लेकिन इन 4 को जरूर बोले मिलकर क्षमा

Mirza Ghalib Episode 1 (Doordarshan) Deciphered

एक चोमू था ...