स्वागत

पसंद / नापसंद .. दर्ज ज़रूर करें !

Monday, November 5, 2012

फूल


फूल,
खिलते है,
महकते है,
मुरझाते है,
बिखर जाते है|
.
लेकिन, इक
दिया था जो तुमने,
कई साल पहले ...
.
मेरी डायरी रखा,
वो आज भी ज़िंदा है ||

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...