ज़िंदा

तुम्हें देखा आज,
एक ज़माने बाद,
.
कुछ देर 
साँसे अटकी, 
फिर, 
दिल धडकने लगा, 
.
मैं ज़िंदा हूँ अबतक ,
ये लगने लगा|| 

~~ऋषभ~~

Comments

Popular posts from this blog

इस पर्युषण पर्व ना भेजे किसी को क्षमापना का व्हाट्सएप, लेकिन इन 4 को जरूर बोले मिलकर क्षमा

Mirza Ghalib Episode 1 (Doordarshan) Deciphered

एक चोमू था ...