ज़िंदा

तुम्हें देखा आज,
एक ज़माने बाद,
.
कुछ देर 
साँसे अटकी, 
फिर, 
दिल धडकने लगा, 
.
मैं ज़िंदा हूँ अबतक ,
ये लगने लगा|| 

~~ऋषभ~~

Comments

Popular posts from this blog

टीम होटल में अब नहीं आ सकेंगी क्रिकेटरों की गर्लफ्रेंड

कभी एक रात

Mirza Ghalib Episode 1 (Doordarshan) Deciphered