स्वागत

पसंद / नापसंद .. दर्ज ज़रूर करें !

Friday, November 16, 2012

वक्त, तब और अब

एक वक्त था, 
हम छोटे थे ...

थोडा डर था, कुछ चिंता थी,
सपने भी थे, आशंका भी, 
कुछ उसूल तब हुआ करते थे,
बेमन पर मना किया करते थे|
.
नए चेहरों से कतराते थे तब,
इम्तिहानों से घबराते थे तब,
दस्सी लगने पर इतराते थे तब,
लड़ते भी थे, चिल्लाते भी थे तब,
.
क्लास टाइम पे जाते थे,
लाइब्रेरी में मगने आते थे,
हर इम्तिहान हमें डराता था,
सारी रात जगाता था,
.
सीनिअर तब 'फंडे' दिया करते थे,
घोड़ा-गिरी हम किया करते थे,
पेफ में लेई लगाते थे तब ,
होस्टल चीअरिंग को जाते थे तब,
.
उठकर रोज़ नहाया करते थे,
मरीन ड्राइव जाया करते थे.
हर बंदी को देखा करते थे,
कुछ कहने से लेकिन डरते थे,
.
कुछ बातें,
अब भी है वैसी ,
.
लेकिन ...
.
अब रातों को उतना
'लुक्खा' नहीं काटते,
घर का खाना चुराने
पर उतना नहीं डांटते|
.
अब एंड-सेम से उतना डरते नहीं है,
क्रिकेट स्कोर पर उतना लड़ते नहीं है|
.
अब हर दीवाली पे घर नहीं जाते,
पुराने दोस्त अब उतना याद नहीं आते,,
फोन पे अब घंटों बतियाते नहीं है,
दिल की बात दोस्तों को बताते नहीं है |
.
कुछ और अब दिखता नहीं,
खुद में हम इस कदर खो गए है,
या फिर शायद ....
हम बड़े हो गए है||

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...