दीपावली ...०

दीवाली पे घर जाएँ कैसे ?
हमरी रेल का कुछ ये है हाल ...
सारी रात लगो लाइन में,
फिर भी कहलाता तत्काल 

Comments

Popular posts from this blog

टीम होटल में अब नहीं आ सकेंगी क्रिकेटरों की गर्लफ्रेंड

कभी एक रात

Mirza Ghalib Episode 1 (Doordarshan) Deciphered